September 19, 2018

कोसी : मधेपुरा-ललितग्राम रेल लाईन निर्माण प्रकरण कब साकार होगा सपना?

By wmadmin123 - Fri Jul 25, 1:12 pm

इसे विडंबना ही कहा जाएगा कि बिहार के चार-चार रेलमंत्राी बने, लेकिन मध्ेपुरा से ललित ग्राम वाया सिंहेश्वर, प्रतापगंज, त्रिवेणीगंज रेललाईन का निर्माण अब तक नहीं हो सका। जबकि बलुआ निवासी स्व. ललित नारायण मिश्र जब रेलमंत्राी थे तो उन्होंने इसके निर्माण के लिए बजट में शामिल किया और सर्वे का निर्देश दिया था। 1934 में आए महाविनाशकारी भूकंप के तीन दशक के बाद वह सर्वे हुआ था। लेकिन हैरत की बात यह है कि सर्वे के बाद जब पटरी बिछाने का काम शुरू होता, उससे पहले बम विस्पफोट में समस्तीपुर स्टेशन पर ललित नारायण मिश्र की जान चली गयी। 54 साल के बाद भी उस रेललाईन का निर्माण अब तक नहीं हो सका है। यह सर्वे में ही सिमटकर रह गया है। रेलमंत्राी ललित नारायण मिश्र के बाद नीतीश कुमार, रामविलास पासवान और लालू यादव ने रेललाईन निर्माण के नाम पर केवल घोषणा व आश्वासन ही देते रहे। हालांकि, 1989 में तत्कालीन रेलमंत्राी रामविलास पासवान ने इसका शिलान्यास भी किया। सर्वे भी कराया गया, लेकिन रिपोर्ट का कोई अता-पता नहीं चला। पूर्व सांसद सुकदेव पासवान की मानें तो वाजपेयी सरकार में रेलमंत्राी रहे नीतीश कुमार ने उन्हंे रेललाईन निर्माण कराने का आश्वासन दिया था। इसके बाद रेल मंत्रालय की सर्वेक्षण टीम आयी भी, लेकिन परिणाम ढ़ाक के तीन पात ही निकला। पिफर 2009 में रेलमंत्राी रहे लालू प्रसाद यादव ने सुपौल-अररिया-वाया त्रिवेणीगंज-रानीगंज बड़ी रेललाईन का उद्घाटन रानीगंज में करके एक बार पिफर से जनता की उम्मीद बढ़ा दी लेकिन हुआ कुछ नहीं। मजे की बात यह है कि इस लोकसभा चुनाव में भी किसी राजनीतिक दलों के एजेंडे में यह मुद्दा शामिल नहीं हुआ।
रेलवेलाईन के इंतजार में कई पीढ़ी गुजर गई, लेकिन नेता इस मांग को पूरा करने के बजाय सब्जबाग दिखाकर अपना वोट बैंक बनाते रहे। अब लोगों की नजर नवनिर्वाचित सांसद पप्पू यादव पर टिकी हुई है। हालांकि, पप्पू यादव ने मध्ेपुरा में रेल इंजन कारखाना के रूके काम को गति देने के लिए दिल्ली में रेलमंत्राी से मिल चुके हैं। यहां के लोग आशान्वित हैं कि मध्ेपुरा-ललितग्राम रेल लाइन निर्माण को पप्पू यादव आकार देकर रहेंगे। इध्र, मध्ेपुरा जिला कांग्रेस के अध्यक्ष सत्येंद्र सिंह यादव कहते हैं-‘अगर ललित बाबू रहते तो मध्ेपुरा से ललितग्राम रेललाईन का निर्माण हो गया होता। ललित बाबू की आंखों में कोसी के विकास का सपना था। उनके असमय जाने से कोसी क्षेत्रा में रेल का विकास ठप हो गया।’ राष्ट्रीय जनता दल के प्रदेश युवा सचिव डाॅ. राजेश रतन तथा प्रदेश युवा महासचिव अमरेंद्र कुमार यादव कहते हैं-‘ललित बाबू के निध्न से कोसी को कापफी क्षति हुई है। लालू प्रसाद जब रेलमंत्राी बनें तब मध्ेपुरा में रेल इंजन कारखाना का शिलान्यास कर कोसी के विकास को दिशा देने का प्रयास जरूर किया था लेकिन । उनके रेल मंत्रालय से हटने के बाद रेल इंजन कारखाना का काम ठप हो गया। अब मध्ेपुरा के विकासपुत्रा सांसद राजेश रंजन उपर्फ पप्पू यादव रेल रंजन कारखाना के काम को आगे बढ़ाने का काम शुरू करवा रहे हैं।’
भाजपा के जिलाध्यक्ष दिलीप कुमार सिंह कहते हैं-‘केंद्र में अब एनडीए की सरकार आ गई है। मध्ेपुरा अब विकास से अछूता नहीं रहेगा। मध्ेपुरा से वीरपुर तक रेललाईन कोसीवासियों की बहुत पुरानी मांग है। नरेंद्र मोदी की सरकार यहां के लोगों के सपने को बेशक साकार करेगी।’
इध्र, मध्ेपुरा जदयू के महासचिव डाॅ. विजेन्द्र कुमार कहते हैं-‘जब ललित बाबू रेलमंत्राी थे उस समय उन्होंने कोसीवासियों से वादा किया था कि मैं अगली बार जब महाशिवरात्रि में मध्ेपुरा आउंगा तो मध्ेपुरा से सिंहेश्वर रेलगाड़ी से बाबा का पूजा करने जाउंगा। परंतु महाशिवरात्रि आने से पहले ही उनकी हत्या कर दी गई। उनके निध्न के बाद कई रेलमंत्राी बने और इस मुतल्लिक वादा भी किया लेकिन सभी का वायदा टांय-टांय पिफस्स हो गया।’ जदयू नेता नरेश पासवान एवं कमल दास कहते हैं-‘मध्ेपुरा से ललितग्राम और वीरपुर तक रेललाईन कोसी के विकास के लिए आवश्यक है। मध्ेपुरा के विकास के लिए हम चुप नहीं बैठेंगे।’ उध्र युवा शक्ति के ओम प्रकाश यादव कहते हैं-‘विकास वही कर सकता है जिनकी आंखों में सपने होते हैं। हमारे माननीय सांसद विकासपुत्रा पप्पू यादव जनता की इस अपेक्षा पर पहले भी खड़े उतरते रहे हैं आगे भी उतरेंगे।’ जिला मुखिया संघ के अध्यक्ष तथा राजद नेता जयकांत यादव कहते हैं-‘कोसी क्षेत्रा की जनता की अपेक्षा वर्तमान सांसद पप्पू यादव जी से कापफी बढ़ी हुई है। रेल इंजन कारखाना के रूके हुए काम को लेकर माननीय सांसद जितने गंभीर हैं इसे देखते हुए मध्ेपुरा-ललितग्राम रेल लाईन के आकार लेने की उम्मीद भी बढ़ गयी है।’त्र

Leave a Reply

Powered By Indic IME