September 19, 2018

‘हम बिहार के युवाओं को सक्रिय राजनीति में लाने के पक्षधर हैं’

By wmadmin123 - Fri Jul 25, 1:21 pm

लोक प्रसंग: आप जेडीआर के नेशनल चेयरपर्सन हैं। बिहार की वर्तमान राजनीतिक परिस्थिति को आप कैसे देखते हैं?
अशपफाक रहमान: नीतीश और लालू दोनों ने आत्महत्या का बहुत अच्छा प्रयास किया है। बिहार की जनता खुली आंखों से देख रही है कि जंगलराज से तथाकथित सुशासनी कैसे मिलने को बेताब हैं। राज्यसभा उपचुनाव में महज अपने दो उम्मीदवारों की जीत सुनिश्चित करने के लिए सुशासन बाबू ने जंगलराज के महानायक के सामने घुटने टेक दिए। ऐसा लगता है कि यु( के मैदान में थके-हारे एक सिपहसालार ने अपने प्रबल विरोध्ी के सामने आत्मसमर्पण कर दिया है। क्या जनता ने इसी दिन के लिए 2010 में नीतिश कुमार के नेतृत्व वाले दल को अपार बहुमत देकर शासन चलाने हेतु अध्किृत किया था? यकीनन बिहार की जनता आज पश्चाताप कर रही है और अभी से लालू-नीतीश विहीन एक नये विकल्प की तलाश में है।
लोक प्रसंग: नीतीश के सुशासन से आप कितने सहमत हैं?
अशपफाक रहमान: नीतीश जी के सुशासन का दावा एक ढकोसला था। नीतीश ने अपफसरशाही को बढ़ावा दिया जिससे भ्रष्टाचार बेतहाशा बढ़ा। एक भी उद्योग बिहार में स्थापित नहीं हुआ। 17 वर्षों तक नरेंद्र मोदी की पार्टी भाजपा से गलबहियां करते रहे। दोनों ने मिलकर केंद्र तथा बिहार की सत्ता का स्वाद चखा। स्वार्थ का जब टकराव हुआ तो अब भाजपा को ‘थउआ-थउआ’ करने की बात कह रहे हैं। राजनीतिक दांवपेंच में नरेन्द्र मोदी से बुरी तरह पछाड़ खाने के बाद स्वेच्छा से मुख्यमंत्राी पद त्याग कर नीतीश आज स्वंय हाशिये पर आ गये हैं। वे सियासी दिवालियेपन के शिकार हैं जिसका प्रमाण है कि वे अपने प्रबल विरोध्ी जंगलराज के महानायक लालू प्रसाद के शरण में जा पहंुचे हैं।
लोक प्रसंग: आपकी पार्टी जनता दल राष्ट्रवादी अभी शैशवावस्था में है। आप अपने राज्य के लोगों को उनका विकल्प देने की स्थिति में तो नहीं हैं?
अशपफाक रहमान: विधनसभा चुनाव 2015 के सितम्बर-अक्टूबर में सम्भावित है। हम पूरा प्रयास करेंगे कि सभी 243 सीटों पर चुनाव लडं़े। लोकसभा चुनाव 2014 में हमने 12 सीटों पर चुनाव लड़कर 16 हजार मत प्राप्त किया था। दल की स्थापना के पहले वर्ष का यह प्रदर्शन हालांकि उम्दा नहीं था पर इसे हमने चुनौती के रूप में लिया है। हम लोगों से सम्पर्क का सिलसिला जारी रखे हुए हैं। हमारा सदस्यता अभियान जारी है। हम राज्य की जनता से युवा पीढ़ी की बेहतरी और विकास के नाम पर समर्थन की अपेक्षा के साथ जनसंपर्क अभियान में जुटे हुए हैं। इस अभियान में हमें प्रत्यक्ष अथवा अप्रत्यक्ष स्वच्छ छवि वाले विभिन्न दलों के ऐसे कई राजनीतिक हस्तियों का सहयोग मिल रहा है जो किसी न किसी रूप से वर्तमान सरकार और अन्य राजनीतिक दलों से खिन्न है। हमें उम्मीद है कि हम 2015 के विधनसभा चुनाव में अपनी मजबूत उपस्थिति दर्ज कराएंगे।
लोक प्रसंग: बिहार में स्वतंत्राता प्राप्ति के उपरांत कांग्रेस सहित कई राजनीतिक दल विकास के नाम पर सत्ता में काबिज हुए पर बिहार आज भी विकास की बाट जोह रहा है। आपकी प्रतिक्रिया?
अशपफाक रहमान: सभी ने जनता को धेखा दिया। बिहार की जनता पहले कांग्रेस पिफर लालू-नीतीश की बातों में आ गई जिसका नतीजा आज का अविकसित बिहार है। इस बिहार में सभी त्रास्त हैं। खासकर युवाओं में बेहद आक्रोश है। उन्हें अपना भविष्य अंध्कारमय लग रहा है।
लोक प्रसंग: आपकी पार्टी युवाओं को वोट बैंक के रूप में देखती है क्या?
अशपफाक रहमान: बात वोट बैंक की नहीं है, युवाओं के भविष्य की है। वस्तुतः हाल तक बिहार के युवा राजनीतिक रूप से अपनी महत्ता को समझने में असपफल रहे हैं। बिहार के राजनेता यहां के युवाओं एवं उनकी उफर्जा को अपने स्वार्थ के लिए उपयोग करते रहे हैं। उन्हें सत्ता को कैरियर के रूप में अपनाने के लिए कभी उत्साहित नहीं किया। हम बिहार के युवाओं को जगाने, उन्हें सक्रिय राजनीति में लाने की सोच पाले हुए हैं। जरूरत है उन्हें राजनीति के ठगों से बचाने की। हमारा प्रयास है कि हम उन्हें पहले राष्ट्र पिफर समाज और अंत में स्वयं के लिए सोचने हेतु प्रेरित करें। इसके लिए हम अपेक्षित वातावरण बनाने की चेष्टा कर रहे हैं। इसके लिए यहां के युवाओं के बीच शैक्षणिक योग्यता के अलावे उनकी कार्यकुशलता में भी वृ(ि के लिए सही योजना को कार्य रूप देने की गंभीर इच्छा रखते हैं। अपफसोस की बात यह है कि आज के राजनीतिक माहौल को करीब से देखकर बिहार के युवा राजनेताओं को चोर-उचक्के की श्रेणी के मान बैठे हैं। जब अच्छे लोग राजनीति में आएंगे तो उनकी यह मान्यता बदल जाएगी। हमारा तो प्रयास है कि पढ़े-लिखे और अच्छे संस्कारों वाले युवा भी हमारे दल के माध्यम से राजनीति में प्रवेश करें। हमें पूरा यकीन है कि जब ऐसे युवा राजनीति में जोर आजमाईश करेंगे और लोकतंत्रा के रास्ते सत्ता के गलियारे में प्रवेश करेंगे तो सामाजिक और राजनीतिक वातावरण में अपेक्षित सुधर होगा। इसलिए हम सभी जाति एवं सम्प्रदाय के सुयोग्य युवाओं तथा समाज के अच्छे लोगों से आह्नान करते हंै कि वे सभी हमारे दल में शामिल हो नये बिहार के निर्माण में हमारा सहयोग करें। त्र

Leave a Reply

Powered By Indic IME